क्या हार को अब स्वीकार करोगे

 

 क्या हार को अब स्वीकार करोगे

 वो अथक परिश्रम जीत का प्रण

इक पल क्या बेकार करोगे 

जो कहते थे मैं जीतूंगा
नव रेखा इक मैं खीचूंगा
है समय विषम
है विषम योग
मन संकल्पित तन ग्रषित रोग
इतने भय के बादल  में
छुप जाना क्या स्वीकार करोगे
क्या हार को अब स्वीकार करोगे
हैं पंख कटे
हो धरा पड़े
उस रावण से क्या प्रतिघात करोगे
क्या हार को अब स्वीकार करोगे .

Advertisements

हिंदी कविता- मैं न जानू

”हमारे जीवन का यह दौर जब हम ख्वाब बुन रहे होते हैं, जब हम हर दिन सुबह उठते है एक ख्वाब के साथ और शाम होते-होते हमारे साथ होती है बहुत सारे लोगों की हिदायते उनमे से कुछ उपयोगी होती है कुछ निरर्थक ऐसे में निर्णय करना क्या उचित क्या नहीं थोड़ा मुश्किल होता है, फिर भी हम निर्णय कर रहे होते है ….कुछ सही कुछ गलत इन छोटे छोटे कदमो (निर्णयों) से भविष्य  की मंजिल भले ही श्पष्ट न दिख रही हो लेकिन एक-एक #तिनका जरूर जुड़ रहा है हमारे भविष्य के घरौंदे में —

  कुछ सुलझ गया जो उलझा था
                                                                      पर क्या है वो
                                           मैं न जानूं 
                                           एक युद्ध जो खुद से जारी था
                                                                      क्या परिणाम रहा
                                           मैं न जानूं
                                           मैं बैठा कई महीनो से
                                                       सागर की लहरें झाँक रहा
                                            रखकर पैर #किनारो पर 
                                                         गहराई मैं माप रहा
                                           भर के अंजुल में पानी
                                                         उसकी छमता मैं आंक रहा
                                           एक दिन उसमे जा उतरा
                                                         हूँ आर या पार
                                            मैं न जानूं
                                                        अँधियारो में कोरे कागज पर
                                            कलम से कुछ तो लिखा था
                                                         मैं #जला बहुत उस रात में
                                             पर वो शब्द मुझे न दिखा था
                                                        भोर में कागज कोरा था
                                              वो क्या था?
                                              मैं न जानूं    
                                              कुछ सुलझ गया जो उलझा था……. सौरभ 

#हिंदी कविता -सौरभ

#हिंदी कविता –
जीवन के इस संघर्ष में जब भी हम विपरीत परिस्थितियों का सामना करते है तो हम डर जाते हैं और समर्पण कर देते है उन परिस्थितियों के आगे लेकिन यदि अपने सोचने का नजरिया थोड़ा सा बदलने का प्रयास करे तो शायद इतिहास में हम भी एक योद्धा के रूप में देखे जाये, कुछ ऐसे ही भावो को समेटे हुए मेरी यह कविता …..

मैं पला बढ़ा हूँ काँटो में
हूँ मनन किया सन्नाटो में
संघर्षो के पथ पर चलना
फितरत है आने दो

मैं और निखर जाऊंगा
थोड़ी और चुनौती आने दो
भय क्या,
शाजिश से अँधियारो की
मैं रही हूँ 
न लकीर हो ऐसे राहों की
मैं ज्योतिपुंज बन जाऊंगा
बस रात अमावस आने दो 
मैं और निखर जाऊंगा 
थोड़ी और चुनौती आने दो …सौरभ